आप ब्राउज़र के पुराने संस्करण का उपयोग कर रहे हैं. MSN का सर्वश्रेष्ठ अनुभव प्राप्त करने के लिए, कृपया किसी समर्थित संस्करण का उपयोग करें.

Movie Review: फिल्म मनमर्जियां में नहीं रखा गया आपकी मर्जी का ख्याल

जागरण लोगो जागरण 5 दिन पहले Rahul Soni
Movie Review: फिल्म मनमर्जियां में नहीं रखा गया आपकी मर्जी का ख्याल © Jagran Prakashan Ltd. द्वारा प्रदत्त Movie Review: फिल्म मनमर्जियां में नहीं रखा गया आपकी मर्जी का ख्याल

-पराग छापेकर

स्टार कास्ट: अभिषेक बच्चन, तापसी पन्नू और विक्की कौशल

निर्देशन: अनुराग कश्यप

निर्माता: आनंद एल राय

कुछ फिल्मों की कहानी बहुत अच्छी होती है, लेकिन उसको तोड़-मरोड़कर बिग स्क्रीन पर पेश करने की कला पर इतना ज्यादा काम कर दिया जाता है कि वह एक ग्रेट फिल्म नहीं कहलाई जा सकती। एेसी फिल्म दर्शकों से कनेक्ट नहीं कर पाती और न ही उन्हें सोचने पर मजबूर करती है।

एेसा ही कुछ अभिषेक बच्चन, तापसी पन्नू और विक्की कौशल की फिल्म मनमर्जियां को लेकर हुआ है। फिल्म की कहानी बहुत अच्छी है जिसमें लव ट्रांयगल नजर आता है, लेकिन यह ट्रायंगल प्यार को छोड़ किसी ओर दिशा में चल पड़ता है। और यही से फिल्म अपना अस्तित्व खो देती है।

फिल्म ग्रेविटिकली करेक्ट लगती है लेकिन कनेक्ट बिल्कुल नहीं है। फिल्म देख रहे दर्शक को किरदार के अच्छे या बुरे से फर्क नहीं पड़ता, वो तो बस एक गवाह की तरह अपने आपको सिनेमाघर में बैठा पाता है। किसी भी किरदार के सफर में वो खुदको शामिल नहीं कर पाता है।

फिल्म का कैरेक्टराइजेशन सबसे बड़ी खामी उभर कर आती है। पंजाबी परिवार लग रहा है कि गुजरात में बसा है। इस परिदृश्य में जो भी चीजें दिखाई गई हैं वो असंभव सी लगती हैं क्योंकि अमूमन एेसा नहीं होता।  

सामाजिकता नहीं आती नजर

फिल्म में कई जगहों पर एेसा लगता है कि जो दर्शाया जा रहा है वो अमूमन होता नहीं है। तापसी पन्नू का किरदार बहुत कन्फ्यूजिंग सा लगता है जिसमें सामाजिकता नहीं है। पहले शादी नहीं करना। शादी करने के बाद भी बॉय फ्रेंड से मिलना। इसके बाद गिल्ट फील करना। यह सब कल्पना के विपरित सा लगता है। प्यारी लव स्टोरी में बोल्डनेस ज्यादा अहमियत लेती नजर आती है। 

एेसी लव स्टोरी जिसमें प्यार नहीं 

अनुराग कश्यप का सिनमा बतौर निर्देशक काफी बोल्ड रहा है। यह लव स्टोरी को कनिका ढिल्लन ने लिखा है जिसमें उन्होंने प्यार की पवित्रता को बखूबी दर्शाया होगा। लेकिन फिल्म में एेसा कुछ ज्यादा नजर नहीं आता।

यह एेसी लव स्टोरी बन कर रह जाती है जिसमें प्यार ही नहीं है। कनिका ने अमृता प्रीतम की कविता को शामिल किया है जो कि अमर प्रेम कविता है। लेकिन अनुराग ने प्यार को कम और बाकी चीजों को ज्यादा अहमियत दे दी। 

बेहतरीन अभिनय

फिल्म में तापसी पन्नू ने शानदार परफॉर्म किया है। वे तूफान की तरह फिल्म को अपने कंधों में लेकर चलती नजर आती हैं। अभिषेक बच्चन और विक्की कौशल की परफॉर्मेंस किरदार के मुताबिक बेहतर थी। आखिर में इस फिल्म को लेकर यही कहा जा सकता है कि, मसाले बहुत अच्छे थे लेकिन खराब चावल से अच्छी बिरयानी नहीं बनाई जा सकती। 

जागरण डॉट कॉम रेटिंग: पांच (5) में से ढाई (2.5) स्टार

 

जागरणकी अन्य खबरें

image beaconimage beaconimage beacon