आप ब्राउज़र के पुराने संस्करण का उपयोग कर रहे हैं. MSN का सर्वश्रेष्ठ अनुभव प्राप्त करने के लिए, कृपया किसी समर्थित संस्करण का उपयोग करें.

जानें प्रेग्नेंसी में पीठ के बल सोना क्यों है खतरनाक और क्या है सोने की सही पोजीशन

Onlymyhealth लोगो Onlymyhealth 11-09-2018 Anurag Gupta

गर्भावस्था के दौरान घर के बड़े-बुजुर्ग महिलाओं को लेटने, उठने, बैठने और सोने संबंधित तमाम हिदायतें देते हैं। इन्हीं में एक सलाह ये दी जाती है कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को पीठ के बल नहीं सोना चाहिए। आइए आपको बताते हैं कि ऐसा क्यों कहा जाता है क्या हैं गर्भावस्था के दौरान लेटने के सही तरीके।

क्या गर्भावस्था में पीठ के बल लेटना खतरनाक है?

गर्भावस्था की शुरुआत में आप चाहे जैसे लेटें, इसमें कोई खास परेशानी नहीं है क्योंकि शुरुआत में आपका शिशु प्यूबिक बोन के पीछे होता है। हालांकि 16 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद पीठ के बल सोना खतरनाक हो सकता है। इस दौरान शिशु थोड़ा भार ग्रहण कर लेता है। पीठ के बल लेटने से आपका शिशु उस नस पर दबाव डाल सकता है, जो आपके शरीर के निचले हिस्से से हृदय तक रक्त पहुंचाती है। हालांकि ऐसा तभी होता है जब आप देर तक पीठ के बल लेटती हैं। लेकिन गर्भावस्था के अंतिम दिनों में पीठ के बल लेटने से आपको बेहोशी आ सकती है या नींद आने जैसा महसूस हो सकता है।

इसे भी पढ़ें:- प्रेग्नेंसी में सीमित मात्रा में ही खाएं घी, नहीं तो शिशु को होगा ये खतरा

क्या गर्भावस्था में दायीं करवट लेकर सोना ठीक है?

गर्भवस्था मे दायीं हाथ की तरफ सोना, पीठ और उल्टा सोने से काफ़ी बेहतर होता है, लेकिन यह उतना सुरक्षित नही है जितना कि बायीं तरफ सोना है। इसका कारण यह है कि, दाहिनी करवट सोने से आपके लिवर पर दबाव पड़ता है, जिससे लिवर से संबंधित क्रियाएं बाधित हो सकती हैं, खासकर आपका पाचन बिगड़ सकता है और शिशु के लिए पौष्टिक तत्वों की कमी हो सकती है। फिर भी अगर आपका बाई तरफ सोने से थक गई हैं या एक तरफ दबाव महसूस कर रही हैं, तो थोड़ी देर के लिए दायें करवट सो सकती हैं।

गर्भावस्था में किस तरह सोना होता है ठीक?

विशेषज्ञों की मानें तो गर्भावस्था में सामान्यतः करवट लेकर सोना और बायीं तरफ करवट लेकर सोना सबसे अच्छा होता है। शिशु के बेहतर विकास और आपके शरीर के आराम के लिए बाएं करवट सोना ज्यादा बेहतर है। इस अवस्था में सोने से आपके गर्भनाल द्वारा आपके शिशु को सभी पोषक तत्व मिलते रहते हैं और रक्त का प्रवाह भी बना रहता है। इस अवस्था में सोने का एक फायदा यह भी है कि इससे आपके शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स निकल जाते हैं, जिससे शरीर में होने वाली सूजन या संक्रमण से बचाव रहता है।

इसे भी पढ़ें:- प्रेगनेंसी के दौरान मेकअप प्रोडक्ट्स से कई खतरे, इस्तेमाल में बरतें ये सावधानियां

गर्भावस्था में कितनी नींद है जरूरी

प्रेग्‍नेंसी के दौरान आराम बहुत जरूरी है, आराम में अच्‍छी नींद भी आती है। गर्भावस्‍था के दौरान जितना ध्‍यान स्‍वस्‍थ खानपान पर देना चाहिए उतना ही ध्‍यान भरपूर और आरामदायक नींद पर भी दीजिए। इस समय 7-9 घंटें की नींद जरूरी है। लेकिन शरीर का वजन बढ़ने के कारण और कई अन्‍य तरह के हार्मोन के कारण नींद नहीं आती। अच्‍छी नींद न आने के कारण दिनभर भारीपन सा लगता है और महिला चिड़चिड़ी भी हो सकती है।

खूब पानी पिएं

गर्भावस्‍था के दिनों में भी पर्याप्‍त मात्रा में पानी पीना बहुत जरूरी है। पानी आपके शरीर से टॉक्सिन बाहर निकालने में मदद करता है और आपको ताजगी भी प्रदान करता है। यह शरीर को हाइड्रेट रखता है जिससे नींद अच्‍छी आती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Pregnancy in Hindi

More from Onlymyhealth

image beaconimage beaconimage beacon