आप ब्राउज़र के पुराने संस्करण का उपयोग कर रहे हैं. MSN का सर्वश्रेष्ठ अनुभव प्राप्त करने के लिए, कृपया किसी समर्थित संस्करण का उपयोग करें.

डॉलर महंगा होने से जापान से कर्ज लेने की होड़, पॉवर ग्रिड और रेलवे ने भी लिया लोन

हिन्दुस्तान लोगो हिन्दुस्तान 12-09-2018 नई दिल्ली। हिटी
Money © Getty Images Money

दिनोंदिन डॉलर के महंगा होने से भारतीय कंपनियों में समुराई लोन यानी जापान से कर्ज लेने की होड़ बढ़ गई है। जापान में बेहद कम ब्याज दरों के कारण और फंड की उपलब्धता से भारतीय कंपनियां उनसे कर्ज लेने की ओर आकर्षित हो रही हैं। 

Samurai loans in india © नई दिल्ली। हिटी Samurai loans in india

जापान में वित्तीय फंड वाली बड़ी कंपनियों को पहलवानों की तरह समुराई कहा जाता है और इनसे लिए कर्ज को भी समुराई लोन बोलते हैं। जापान से कर्ज में इस साल छह फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 84.6 करोड़ येन पहुंच गया है। पॉवर ग्रिड कारपोरेशन, इंडियन रेलवे फाइनेंस कारपोरेशन जैसे सार्वजनिक उपक्रम ऐसा कर्ज लेने में आगे हैं। यह वर्ष 2006 के बाद सबसे ज्यादा जापानी कर्ज है। 

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, विदेशी बैंक अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी और उभरते देशों की मुद्राओं में उथल-पुथल के बाद भारत समेत उभरते देशों को कर्ज देने में हिचकिचा रहे हैं। दक्षिण एशियाई देशों में फंसे कर्ज का अनुपात बेहद ऊंचे स्तर पर होने के कारण घरेलू बैंकों से भी ऋण नहीं मिल रहा है।

ऐसे में समुराई लोन आकर्षक विकल्प बन गया है। ग्रामीण विद्युतीकरण निगम ने भी मित्सुबिशी यूएफजे फाइनेंसियल से 9.2 करोड़ येन का कर्ज लिया है। यह डॉलर के मुकाबले 50 फीसदी सस्ता है। जबकि अमेरिकी कर्ज 13 अरब डॉलर से घटकर 10 अरब डॉलर आ गया है। 

एनपीए पर रघुराम राजन के बयान पर सियासी घमासान

Liveहिन्दुस्तान.comकी अन्य खबरें

हिन्दुस्तान
हिन्दुस्तान
image beaconimage beaconimage beacon